जल निगम भर्ती घोटाले में अब होगी परीक्षा कराने वाली कंपनी के अधिकारियो से पूछताछ , एसआईटी ने कंपनी को नोटिस भेजने की तैयारी , क्लिक करे और पढ़े पूरी खबर

 जल निगम भर्ती घोटाले में अब होगी परीक्षा कराने वाली कंपनी के अधिकारियो से पूछताछ , एसआईटी ने कंपनी को नोटिस भेजने की तैयारी , क्लिक करे और  पढ़े पूरी खबर 

जलनिगम में 1300 पदों पर हुई भर्ती में धांधली के मामले में एसआइटी अब ऑनलाइन परीक्षा संचालित कराने वाली अपटेक लिमिटेड कंपनी के अधिकारियों से पूछताछ की तैयारी कर रही है। एसआइटी मामले में सपा सरकार के कैबिनेट मंत्री आजम खां के बयान दर्ज करने के बाद जल्द परीक्षा कराने वाली कंपनी को नोटिस देगी। अधिकारी यह पता लगाने का प्रयास करेंगे कि आखिर गड़बड़ किए जाने का दबाव किस स्तर से था। दूसरी ओर पूर्व मंत्री आजम खां ने अपने बयानों में उन्हें धोखे में रहकर कई फाइलों में दस्तखत कराने की बात कही थी।

लिहाजा एसआइटी अब जल निगम के तत्कालीन एमडी पीके आसूदानी, पूर्व मंत्री के ओएसडी सैय्यद आफाक अहमद व कुछ अन्य अधिकारियों की भूमिका को और गहनता से भी जांचेगी। ताकि स्पष्ट हो सके कि पूर्व मंत्री से भर्ती संबंधी फाइलों में दस्तखत किस तरह कराए गए थे।

122 को ठेंगा, 1178 को वेतन दे रहा जल निगम :
भर्तियों में गड़बड़ी करने वाला जल निगम अब गलती सुधारने की बजाय दूसरी गलती करने की ओर बढ़ रहा है। जिन 1300 पदों पर भर्तियों को अनियमित माना गया था, उनमें 122 सहायक अभियंताओं को बाहर का रास्ता दिखाने के बाद जल निगम एक ओर इस लड़ाई को सुप्रीम कोर्ट तक लेकर पहुंच गया है तो दूसरी तरफ 1300 में बाकी बचे 1178 जूनियर इंजीनियरों व नैत्यिक लिपिक को नोटिस तक नहीं दिया गया है।
दरअसल वर्ष 2016 में जल निगम में भर्ती के लिए हुई परीक्षा में एक सी गड़बड़ियां थीं। भर्ती परीक्षा कराने के लिए एजेंसी के चयन को लेकर सवाल उठे थे, जबकि आचार संहिता से पहले रिजल्ट जारी कराने के लिए एजेंसी को हड़बड़ी में किया गया भुगतान और आधी रात में नियुक्ति पत्र जारी किया जाना भी संदिग्ध था। इसी तरह ऑनलाइन परीक्षा परिणाम के साथ मार्कशीट जारी नहीं की गई, जबकि इंटरव्यू की प्रक्रिया भी सवालों के घेरे में आई थी।

Leave a Comment