यूपी लोक सेवा आयोग द्वारा जारी किये गए UPPSC PRE रिजल्ट पर उठे सवाल , अभ्यर्थियों का आरोप आयोग ने की परिणाम जारी करने में लापरवाही , कोर्ट में जायँगे प्रतियोगी छात्र

लोक सेवा आयोग की पीसीएस प्री 2017 परीक्षा को भी हाईकोर्ट में चुनौती देने की तैयारी चल रही है। असंतुष्ट परीक्षार्थियों ने गलत प्रश्नों समेत तीन बिन्दुओं को लेकर याचिका दायर करने को अधिवक्ताओं से संपर्क किया है।अगले सप्ताह याचिका हो सकती है। आयोग ने पीसीएस प्री 2017 के पहले और दूसरे पेपर से पांच-पांच प्रश्नों को गलत होने के कारण हटाया है।

प्रतियोगियों का कहना है कि इन प्रश्नों को हटाने के बाद भी मेरिट 200 के पूर्णांक पर तैयार की गई है। इनकी मांग है कि पांच गलत प्रश्नों को हटाने के बाद पहला पेपर जिसमें 150 प्रश्न होते हैं कि मेरिट 145 प्रश्नों और दूसरा पेपर, जिसमें 100 प्रश्न होते हैं कि मेरिट 95 प्रश्नों के आधार पर बनाई जाए। परीक्षार्थियों का कहना है कि प्रश्नों को हटाने के बाद आयोग फामरूले से नंबर निर्धारित करता है, जो विश्वसनीय नहीं है।

प्रतियोगियों के मुताबिक आयोग ने आपत्ति के बाद पहले पेपर के दो प्रश्नों का उत्तर बदला है जबकि यह गलत है। इनका दावा है कि इन प्रश्नों का उत्तर भी विवादित था इसलिए उत्तर बदलने के बजाए इन्हें भी हटाया ही जाना चाहिए था। पीसीएस प्री 2017 का परिणाम 19 जनवरी को घोषित हुआ था। डिप्टी कलेक्टर व डिप्टी एसपी समेत विभिन्न श्रेणी के 677 पदों के लिए 14032 परीक्षार्थियों को मुख्य परीक्षा के लिए सफल किया गया है। पीसीएस प्री 2017 परीक्षा 24 सितंबर को हुई थी। कुल 455297 परीक्षार्थियों में से 246654 परीक्षा में शामिल हुए थे।

Leave a Comment